Russia Ukraine News: Ukraine obstructs Russia natural gas flow, pushes back Russian troops in Kharkiv | यूक्रेन ने रूस के नैचुरल गैस फ्लो को किया बाधित, खारकीव में रूसी सैनिकों को पीछे धकेला


Image Source : AP
Ukrainian President Volodymyr Zelenskyy, center, arrives to attend a military drill outside the city of Rivne, northern Ukraine.

जेपोरीजिया: यूक्रेन ने बुधवार को बहुत बड़ा ऐक्शन लेते हुए एक केंद्र के जरिए रूस के प्राकृतिक गैस के प्रवाह को रोक दिया। साथ ही यूक्रेन की सेना ने दावा किया कि उसने एक प्रमुख पूर्वोत्तर शहर खारकीव के पास लड़ाई में रूसी सैनिकों को पीछे धकेल कर खुद को मजबूत किया है। ये दोनों ही घटनाएं रूस के लिए बड़ा झटका मानी जा रही हैं। पिछले 11 हफ्तों में रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध न केवल मैदानों, कस्बों और शहरों में, बल्कि पावर और फाइनेंशियल मार्केट्स में भी लड़ा गया है।

रूस की ऑयल कंपनी ने दिया गिरावट का संकेत

यूक्रेन के सहयोगियों ने मांग की है कि ऊर्जा प्रतिबंधों के जरिए रूस को जंग के लिए जरूरी फंड पर रोक लगाई जाए। बुधवार को यह तुरंत साफ नहीं हो पया कि गैस के फ्लो को रोकने का यूरोप के ऊपर क्या असर पड़ा है। यूक्रेन में प्राकृतिक गैस पाइपलाइन के ऑपरेटर्स ने कहा कि यह घटनाक्रम सप्लाई को दूसरे केंद्र की ओर ट्रांसफर कर देगा। एक विश्लेषक ने कहा कि युद्ध की वजह से ट्रांजिट प्रभावित नहीं होना चाहिए, लेकिन रूस के स्वामित्व वाली विशाल गजप्रोम ऑयल कंपनी ने कुछ गिरावट का संकेत दिया।

पहली बार यूक्रेन ने सप्लाई को किया है बाधित
गजप्रोम ऑयल कंपनी ने कहा कि वह यूक्रेन के माध्यम से यूरोप को 72 मिलियन क्यूबिक मीटर गैस की आपूर्ति कर रहा है, जाहिर तौर पर यह एक दिन पहले से 25 प्रतिशत नीचे है। यह भी साफ नहीं हो पाया है कि यूक्रेन के इस कदम का रूस क्या जवाब देगा, क्योंकि उसके पास लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रैक्ट और गैस ट्रांसपोर्टेशन के अन्य तरीके हैं। बहरहाल, इस कदम का प्रतीकात्मक असर हो सकता है क्योंकि यह पहली बार है जब यूक्रेन ने यूरोप जा रही गैस के फ्लो को प्रभावित किया है। यह भी तब हुआ है जब यूरोपीय संघ ने रूसी ऊर्जा पर निर्भरता को कम करने की बात कही है।

‘खारकीव के पास से रूसी सेना को खदेड़ दिया’
इस बीच राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि यूक्रेन की सेना ने देश के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव के पास के 4 गांवों से रूसी सेना को खदेड़ दिया है और अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। युद्ध के शुरुआती दिनों में रूसी सेना यूक्रेन की राजधानी कीव पर हावी होने में नाकाम रही थी। तब रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपना ध्यान उस क्षेत्र पर केंद्रित कर दिया, जो यूक्रेन का औद्योगिक गढ़ है और वर्षों से मॉस्को समर्थित अलगाववादियों और यूक्रेन के सैनिकों के बीच लड़ाई का स्थल भी रहा है।

‘खारकीव से दूर धकेले जा रहे हैं रूसी सैनिक’
जेलेंस्की ने अपने संबोधन में कहा कि उनकी सेना धीरे-धीरे रूसी सैनिकों को खारकीव से दूर धकेल रही है। रूसी सेना ने डोनबास में बढ़त हासिल की है और पहले की तुलना में इस पर ज्यादा नियंत्रण कर लिया है। रूस की आसान जीत को रोकने की यूक्रेन की क्षमता के उदाहरणों में से एक मारियुपोल है, जहां एक स्टील प्लांट में छिपे हुए यूक्रेनी लड़ाकों ने रूस को शहर पर पूरी तरह कब्जा करने से रोक दिया। प्लांट की रक्षा करने वाली रेजिमेंट ने कहा कि रूसी युद्धक विमानों ने 24 घंटों में 34 बार हमला करते हुए उस पर बमबारी जारी रखी।





Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.