Rahul Bhatt Targeted Killing Wrong report on Kashmir being given to the Center says film maker ashoke pandit


Image Source : FILE PHOTO
Film Director and Producer Ashoke Pandit

Highlights

  • कश्मीरी पंडित को उपराज्यपाल बनाने की मांग
  • “कश्मीर के मुसलमानों पर हम भरोसा नहीं करते”
  • राहुल भट्ट की हत्या पर बोले फिल्म मेकर अशोक पंडित

Rahul Bhatt Targeted Killing: जम्मू कश्मीर में आतंकियों द्वारा लगातार कश्मीर पंडितों की टारगेट किलिंग की जा रही है। इसमें सबसे ताजा नाम राहुल भट्ट का है, जिन्हें आतंकियों ने उनके सरकारी ऑफिस में घुसकर गोली मार दी। इसके बाद वो हुआ जो आज तक इस राज्य में देखने को नही मिला। पूरे जम्मू कश्मीर में बड़े पैमाने पर सड़कों पर उतरकर कश्मीर पंडितों ने प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान इनकी पुलिस से साथ झड़प बी हुई। पुलिस ने इसके बाद लाठीचार्ज किया और आंसू गैस गोले भी छोड़े। इस घटना से कई कश्मीरी पंडित बेहद नाराज हैं। इस पूरे मामले पर बॉलीवुड के जाने-माने फ़िल्म डायरेक्टर और प्रोड्यूसर अशोक पंडित ने इंडिया टीवी से खास बातचीत की है।

“लग रहा हम अनाथ हो गए”

राहुल भट्ट की टारगेट किलिंग को लेकर फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने कहा कि कल जिस तरह राहुल भट्ट की हत्या के खिलाफ आंदोलन कर रहे कश्मीरी पंडितों पर लाठीचार्ज किया गया, वाटर कैनन और आंसू गैस छोड़ी गई, उससे हम पंडित बहुत निराश हुए हैं। अब हमें लग रहा है कि हम अनाथ हो गए हैं। 

उन्होंने कहा कि कश्मीर के विकास का तब तक कोई मतलब नहीं जब तक कश्मीरी पंडितों को कश्मीर में सुरक्षित और सही तरीके से बसाया नहीं जाता, तब तक यह विकास के दावे सब खोखले हैं। बातचीत के दौरान अशोक पंडित ने सवाल किया कि किस प्लान के हिसाब से 5000 पंडितों को कश्मीर में ले जाकर बसाया गया? आप सभी को सुरक्षा नहीं दे सकते, आपको वहां माहौल बनाना होगा।

“कश्मीरी पंडित को क्यों नहीं बनाया गवर्नर” 

इंडिया टीवी से बातचीत के दौरान अशोक पंडित ने कहा कि कश्मीरी पंडितों की हालत तब तक कश्मीर में नहीं सुधरेगी जब तक आप उन्हें प्रशासन से लेकर सरकार में निर्णायक पोस्ट पर नही रखेंगे। कश्मीरी पंडितों के 32 साल का दर्द सिर्फ वही समझ सकता है, तभी हालात घाटी में सुधरेंगे।

उन्होंने कहा कि कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा की जगह क्यों कोई कश्मीरी पंडित को गवर्नर नहीं बनाया गया? अशोक ने कहा, “मनोज सिन्हा से हमें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन अगर उस पद पर कश्मीरी पंडित या हिन्दू हो तो वो हमारे दर्द को ज़्यादा अच्छे से समझेगा।”

अशोक पंडित की 3 मांगें

फिल्म डायरेक्टर पंडित ने कल की घटना पर तीन मांगें रखी हैं। उन्होंने कहा, “पहला जिन लोगों ने कल कश्मीरी पंडितों पर लाठी चार्ज और आंसू गैस छोड़ने का आर्डर दिया उन्हें तुरंत सस्पेंड किया जाए। दूसरा, एक केंद्र की तरफ से डेलिगेशन बनाया जाए जिसमें कश्मीरी पंडित भी हों, उन्हें लोगो के बीच भेजना चाहिए। और तीसरा कश्मीर में सभी 5000 पंडित जिन्हें पीएम स्कीम के जरिए घाटी में बसाया गया, उन्हें जम्मू शिफ्ट किया जाए।”

“कश्मीरी मुसलमानों पर भरोसा नहीं”

अशोक पंडित ने खास बातचीत में कहा कि हम कश्मीर के मुसलमानों पर भरोसा नहीं कर सकते, चाहे जितनी भी कोशिश करें। क्योंकि मेरे घर में आग लगाने वाला, हमारे लोगों को बेघर करने वाला, मारने वाला, बेटियों का बलात्कार करने वाला हमारा मुस्लिम पड़ोसी ही था। उन्होंने कहा कि अपनी गलतियों को छिपाने के लिए कश्मीरियत की बातें सिर्फ ढोंग हैं। 

अशोक ने कहा कि कोंग्रेस, पीएडीपी, एनसी किसी को भी पीएम मोदी को सीख देने की ज़रूरत नहीं, क्योंकि आज जो हम झेल रहे हैं, आतंकवाद को जिसने पैदा किया वो यह डाब हैं, इन्हें सीख देने की कोई जरूरत नहीं। मोदी सरकार पर हमें भरोसा है, लेकिन जमीनी स्तर पर कई कमियां हैं जिसके चलते यह घटनाएं हो रही हैं।

“हथियार उठाने पर मजबूर किया जा रहा”

इंडिया टीवी से खास बातचीत में अशोक पंडित ने कहा, “हमें हथियार उठाने पर मजबूर किया जा रहा है। हम हिंसा नहीं चाहते, हम गांधी को मानने वाले लोग हैं लेकिंन बर्दाश्त की भी हद होती है। पिछले 32 सालों से हम झेल रहे हैं, इसका कही तो अंत होना चाहिए।” उन्होंने आगे कहा कि कश्मीर से जब धारा 370 और 35A हटा तो हमें बेहद खुशी हुई कि हम भी देश का हिस्सा हो गए। आज जो कश्मीर भारत के साथ जुड़ा है वो हम कश्मीरी पंडितों की वजह से है, लेकिन आज हमारे साथ ही छल किया जा रहा है। हमारी भावनाओं से साथ खेलकर हमें बली का बकरा बनाया जा रहा है।

“केंद्र को दी जा रही गलत रिपोर्ट”

फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने बातचीत के दौरान दावा किया कि राहुल भट्ट की हत्या में उसके ऑफिस के लोग भी शामिल थे, इसलिए आतंकियों ने सीधे ऑफिस में घुसकर सिर्फ उसे ही गोली मारी। इतना ही नहीं इस दौरान अशोक ने ये भी दावा किया कि केंद्र को कश्मीर से गलत रिपोर्ट किया जा रहा है कि वहां हालात तेजी से सुधर रहे हैं। पंडित ने कहा कि यह बिल्कुल गलत है, हालात और खराब हो रहे हैं। इसलिए ग्राउंड लेवल पर कश्मीरी पंडितों को प्रशासन और गवर्नेंस में सीधे इन्वॉल्व करना होगा। 





Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.