हाथरस भगदड़ हादसा: 116 लोगों की मौत, भोले बाबा मौके से फरार

 

चर्चा का विषय: हाथरस में सत्संग हादसा (The Hathras stampede incident), 116 मौतें, पीएम मोदी, राष्ट्रपति मुर्मू ने शोक जताया।

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में मंगलवार को आयोजित एक सत्संग (धार्मिक कार्यक्रम) के दौरान भगदड़ मच गई, जिसमें 116 लोगों की मौत हो गई, जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। राज्य सरकार ने इस हादसे की जांच के आदेश दिए हैं और तीन मंत्रियों को मौके पर भेजा है ताकि राहत कार्य की निगरानी की जा सके।

The Hathras Stampede Incident (हाथरस भगदड़ हादसा)

Inspector General (Aligarh) Shalabh Mathur  ने पुष्टि की कि इस भगदड़ में 116 लोगों की मौत हो चुकी है।

“satsang organisers के खिलाफ FIR  दर्ज की जाएगी क्योंकि कार्यक्रम में भीड़ permitted  संख्या से अधिक थी।

उन्होंने कहा कि “एक high-level की जांच के आदेश दिए गए हैं”।

Uttar Pradesh Chief Secretary Manoj Kumar Singh ने भगदड़ स्थल का दौरा किया, और उन्होंने कहा कि  116 मृतकों में से 108 महिलाएं, सात बच्चे और एक पुरुष हैं और उन्होंने कहा  कि इनमें से अब तक 72 लोगों की पहचान हो चुकी है।

राज्य सरकार की घोषणा

State government  ने मृतकों के लिए 2 लाख रुपये और घायलों के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की है।उन्होंने कहा कि central government भी इतनी ही राशि देगी।

सत्संग का आयोजन  जिसका नाम ( Manav Mangal Milan Sadbhavna Samagam Committee) है, Godman Narayan Sakar Hari ,जिन्हें Sakar Vishwa Hari या  Bhole Baba भी कहा जाता है, के लिए आयोजित किया गया था। भगदड़ के बाद से भोले बाबा का पता नहीं चल पाया है और पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

गवाह के अनुसार, भक्तों की दम घुटने से मौत हो गई और भगदड़ में शव एक-दूसरे के ऊपर जमा हो गए –यह हाल के वर्षों की सबसे बड़ी त्रासदियों में से एक है।पीड़ितों को जिले के Sikandara Rao Trauma Centre और government hospital, Etah में ले जाया गया है

वीडियो और गवाह के बयान:

घटनास्थल से वीडियो में दिखाया गया है कि लोग पीड़ितों को, चाहे वे मृत हों या बेहोश, एम्बुलेंस, ट्रक और कारों में Sikandara Rao Trauma Centre ले जा रहे हैं। दिल दहला देने वाले दृश्य सामने आए जब कई घायल, अस्पताल के  entrance के पास अपने चिंतित रिश्तेदारों से घिरे हुए पड़े थे।

Sikandara Rao के sub divisional magistrate Ravendra Kumar के अनुसार, भगदड़ तब हुई जब भक्त भोले बाबा की एक झलक पाने की कोशिश कर रहे थे, जिन्होंने कार्यक्रम के अंत में सत्संग का संचालन किया था।

Chief Minister Yogi Adityanath ने एक बयान में कहा, “यह घटना अत्यंत दुखद और दिल दहला देने वाली है… Local organisers ने ‘भोले बाबा’ का कार्यक्रम आयोजित किया था। कार्यक्रम के बाद, जब सत्संग के प्रवक्ता मंच से नीचे आ रहे थे, अचानक भक्तों की भीड़ उनकी ओर बढ़ने लगी और जब ‘सेवादारों’ ने उन्हें रोका, तब यह दुर्घटना हुई।”

योगी आदित्यनाथ का बयान:

इस पूरे मामले की जांच के लिए हमने Additional DG Agra की अध्यक्षता में एक Team का गठन किया है और उन्हें detailed report देने के लिए कहा है। 

घटना को देखते हुए राज्य के Chief Secretary और DGP वहां डेरा डाले हुए हैं।

उन्होंने कहा कि “State government के तीन मंत्री Chaudhary Laxmi Narayan, Sandeep Singh, Asim Arun, सभी वहाँ मौके पर उपस्थित हैं”।

Hathras stampede incident पर गवाहो की प्रतिक्रियाएं:

एक eyewitness ने भयानक घटना को याद करते हुए कहा, “हम सत्संग के लिए आए थे, यहाँ बहुत ज्यादा भीड़ थी।

सत्संग खत्म होने के बाद, हम बाहर निकलने लगे, बाहर निकलने का रास्ता बहुत तंग था।

जब हम मैदान की ओर निकलने की कोशिश कर रहे थे, तब अचानक से हलचल शुरू हो गई,

और हमें समझ नहीं आयाकि क्या करना है और इसी दौरान कई लोग मारे गए।”

एक अन्य eyewitness ने कहा, “सत्संग खत्म होने के बाद, सभी बाहर आए।

बाहर, सड़क ऊंचाई पर बनी थी जिसके नीचे एक नाली थी।

एक के बाद एक, लोग उसमें गिरने लगे और कुछ लोग कुचल गए।”

 Hathras Stampede Incident पर नेताओं की शोक संवेदनाएं:

President Droupadi Murmu  ने उन परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है।

“Uttar Pradesh  के Hathras  जिले में हुई दुर्घटना में कई भक्त, जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं, की मौत का

समाचार दिल दहला देने वाला है।

उन्होंने कहा मैं उन परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करती हूं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है

और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करती हूं,” उन्होंने अपने Official X handle पर post किया।

Hathras Stampede Incident पर नरेंद्र मोदी की संवेदना :

Prime Minister Narendra Modi, जो संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब दे रहे थे,

उन्होंने हाथरस भगदड़ पीड़ितों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए अपना भाषण बीच में ही रोक दिया।

उन्होंने कहा “मुझे हाथरस में एक दुखद मृत्यु की खबर मिल रही है।

मैं उन लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं जिन्होंने अपनी जान गंवाई है

और घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं”

उन्होंने कहा कि “राज्य सरकार बचाव कार्य में जुटी हुई है और केंद्र सरकार संपर्क में है।

उन्होंने कहा कि “पीड़ितों को हर संभव मदद दी जाएगी”

 

मदद का आश्वासन: Amit Shah

Union Home Minister Amit Shah ने  Uttar Pradesh के Chief Minister Yogi Adityanath –

से दुर्घटना के संबंध में  बात की और केंद्र से हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

उन्होंने  Tweeter (X) पर हिंदी में लिखा “ NDRF Medical Team  भी जल्द ही हाथरस पहुंच रही है”।

Akhilesh Yadav  ने की  U.P. सरकार की आलोचना

Samajwadi Party  के chief Akhilesh Yadav ने U.P. सरकार की आलोचना करते हुए

कहा, क्योंकि राज्य सरकार को पहले से बड़ी संख्या में लोगों के सत्संग में शामिल होने की सूचना थी,

इसलिए यह उनकी जिम्मेदारी थी कि वे उचित उपाय सुनिश्चित करें।”

 

राहत और बचाव में सहयोग करे: Rahul Gandhi 

लोकसभा में विपक्ष के नेता Rahul Gandhi  ने इस घटना को “अत्यंत दुखद” बताया। उन्होंने कहा “मैं सभी शोक में

डूबे परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की आशा करता हूं।

सरकार और प्रशासन से अनुरोध है कि घायलों को हर संभव इलाज और affected परिवारों को राहत प्रदान करें।

भारत के सभी कार्यकर्ताओं से अनुरोध है कि राहत और बचाव में सहयोग करें।”

 

भोले बाबा कहा जाने वाला सख्श आखिर है कौन ?

  • भोले बाबा एटा जिले के पटियाली तहसील के बहादुर गांव के रहने वाले हैं।
  • वह दावा करते हैं कि वह Intelligence Bureau (IB) के पूर्व कर्मचारी हैं।
  • उनके अनुयायियों का कहना है कि भोले बाबा ने 26 साल पहले अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी थी और धार्मिक प्रवचन देना शुरू किया था। आज उनके लाखों भक्त हैं, जिनमें (Uttar Pradesh, Uttarakhand, Haryana, Rajasthan, और Delhi) के भक्त  ज्यादा संख्या में शामिल हैं।
  • विशेष रूप से, कई आधुनिक धार्मिक हस्तियों के विपरीत, भोले बाबा social media से दूर रहते हैं और किसी भी platform पर उनके official accounts नहीं हैं।
  • उनके अनुयायियों का दावा है कि जमीनी स्तर पर उनका प्रभाव बहुत बड़ा है।
  • भोले बाबा के कार्यक्रम हर मंगलवार को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में आयोजित किए जाते हैं, जिसमें हजारों लोग शामिल होते हैं।
  • इन सभाओं के दौरान,  सेवाकर्ता भक्तों के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करते हैं, जिसमें भोजन और पेय की चीजें शामिल हैं। 

 

Credit: Twitter (X)