Mundka Fire Accident: warehouse owner have no fire NOC, many people missing, relatives looking for, know the full incident of the accident-गोदाम के पास नहीं था फायर NOC, कई लोग लापता, ढूंढ रहे परिजन,


Image Source : PTI
Mundka Fire Accident:

Mundka Fire Accident: दिल्ली के पश्चिमी इलाके में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित चार मंजिला बिल्डिंग में शुक्रवार शाम आग लगने से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य झुलस गए। आग बुझाने और लोगों को बचाने के काम के बीच इस हादसे के बाद लोग अभी भी लापता हैं। उनके परिजन अपनों की तलाश में भटक रहे हैं। वहीं बताया जा रहा है कि गोदाम के पास फायर एनओसी नहीं था। बिना एनओसी के यहां सीसीटीवी और इलेक्ट्रिक वायर बनाने का काम किया जाता था। कंपनी के मालिकों को पुलिस ने अपने शिकंजे में ले लिया है। जानिए आग के हादसे का पूरा घटनाक्रम।

सीसीटीवी और इलेक्ट्रिक वायर बनाए जाते थे गोदाम में

आग इमारत की पहली मंजिल से लगनी शुरू हुई, जहां सीसीटीवी कैमरा और राउटर निर्माता कंपनी का कार्यालय था। पुलिस ने बताया कि आग बुझाने के काम में 30 से अधिक दमकल वाहनों को लगाया गया। पुलिस ने बताया कि कंपनी के मालिकों-हरीश गोयल और वरुण गोयल को हिरासत में ले लिया गया है और इमारत के मालिक की पहचान मनीष लाकरा के रूप में हुई है। उसने बताया कि वह इमारत के सबसे ऊपर वाले तल पर रहता था और उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जा रहा है। 

सूचना मिलते ही 30 दमकल गाड़ियां पहुंच गई थी मौके पर

दिल्ली दमकल सेवा के प्रमुख अतुल गर्ग ने कहा कि इस अभियान में कोई दमकलकर्मी घायल नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि छह दमकल वाहन अब भी घटनास्थल पर हैं और तीन-चार लोगों के अभी फंसे होने की आशंका है। पुलिस के अनुसार, आग लगने की सूचना शाम 4.45 बजे मिली, जिसके बाद 30 से अधिक दमकल गाड़ियों को मौके पर भेजा गया। घटनास्थल पर हर तरफ दुखद दृश्य दिखाई दिए। कई लोग जान बचाने के लिए खिड़कियों से कूदते दिखे तो कई लोग रस्सियों के सहारे इमारत से नीचे आते दिखाई दिए। 

50 कर्मचारियों को सुरिक्षत निकाल लिया गया, लेकिन 27 जानें चली गईं

यह आग मुंडका मेट्रो स्टेशन के पिलर नंबर 544 के निकट लगी। शुरुआती पूछताछ में पुलिस को पता चला कि चार मंजिला इमारत में कंपनियों को ऑफिस स्पेस मुहैया कराया जाता था। उन्होंने बताया कि पहली मंजिल में एक कंपनी का कार्यालय था और उसके 50 से अधिक कर्मचारियों को सुरक्षित निकाल लिया गया, वहीं 27 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। बचाए गए लोगों को तत्काल चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए कुछ एम्बुलेंस भी मौके पर मौजूद थीं। दमकल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रात करीब 11 बजे आग पर काबू पा लिया गया लेकिन रेस्क्यू अभियान जारी है। 

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित कई ​हस्तियों ने जताया शोक

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आग लगने से हुई लोगों की मौत पर शोक जताया। कोविंद ने कहा कि वह इमारत में आग लगने से कई लोगों की मौत से अत्यंत दुखी हैं। उन्होंने पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। राष्ट्रपति ने कहा, ‘ मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’ कोविंद ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास एक इमारत में आग लगने की घटना से अत्यंत दुखी हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली में भीषण आग की घटना में लोगों की मौत से बेहद दुखी हूं। शोकाकुल परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं। मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से इस हादसे में जाने गंवाने वालों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये तथा घायलों को पचास-पचास हजार रुपये की राशि दी जाएगी।

केजरीवाल और राहुल गांधी ने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हादसे पर शोक व्यक्त किया और कहा कि वह लगातार अधिकारियों के संपर्क में हैं। केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी घटना पर दुख व्यक्त किया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में आग लगने की घटना में कई लोगों की मौत पर शुक्रवार को दुख जताया और झुलसे हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘दिल्ली में मुंडका के निकट हुई अग्नि दुर्घटना में कई लोगों की मौत से दुखी हूं। पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कहा, ‘मुंडका आग हादसे की खबर सुनकर मन को भारी दुख पहुंचा। मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि घायलों को जल्द स्वास्थ्य लाभ मिले।’ 





Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.