ताजमहल विवाद पर हाईकोर्ट की फटकार, याचिकाकर्ता से कहा- यूनिवर्सिटी जाओ, PHD करो तब कोर्ट आना । Taj Mahal Case hearing high court slammed petitioner


Image Source : PTI
Taj Mahal

Highlights

  • ताजमहल में सर्वे की मांग को लेकर याचिका खारिज
  • याचिकाकर्ता को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई फटकार
  • ताजमहल किसने बनवाया इस पर जाकर रिसर्च करो- कोर्ट

Taj Mahal Case: आगरा के ताजमहल विवाद पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाई है। जस्टिस डीके उपाध्याय ने कहा कि PIL व्यवस्था का मजाक ना बनाया जाए, इसका दुरुपयोग ना किया जाए। कोर्ट ने कहा कि ताजमहल किसने बनवाया इस पर जाकर रिसर्च करो। यूनिवर्सिटी जाओ, PHD करो तब कोर्ट आना। जस्टिस डीके उपाध्याय ने याचिकाकर्ता को फटकारते हुए पूछा कि क्या इतिहास आपके मुताबिक पढ़ा जाएगा। कोर्ट ने कहा कि अगर कोई रिसर्च करने से रोके, तब हमारे पास आना। उन्होंने कहा कि कल को आप आएंगे और कहेंगे कि आपको जजों के चेंबर में जाना है, तो क्या हम आपको चैंबर दिखाएंगे? इतिहास आपके मुताबिक नहीं पढ़ाया जाएगा। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में एक राउंड की सुनवाई पूरी हो गई है।

ताजमहल पर हाईकोर्ट में सुनवाई, ये हैं तीन प्रमुख मांगें-

  • पहली मांग – ताजमहल में बंद पड़े 22 कमरे खोले जाएं
  • दूसरी मांग – ASI से खुलवाए जाएं बंद पड़े कमरे
  • तीसरी मांग – बंद कमरों में मूर्ति,शिलालेख की तलाश हो

भाजपा के अयोध्या मीडिया प्रभारी ने दायर की है याचिका


आपको बता दें कि भाजपा के अयोध्या मीडिया प्रभारी डॉ. रजनीश सिंह ने 7 मई को कोर्ट में याचिका दायर कर ताजमहल के 22 कमरों को खोलने की मांग की है। उन्होंने इन कमरों में हिंदू-देवी-देवताओं की मूर्ति होने की आशंका जताई है। उनका कहना है कि इन बंद कमरों को खोलकर इसका रहस्य दुनिया के सामने लाना चाहिए। याचिकाकर्ता रजनीश सिंह ने इस मामले में राज्य सरकार से एक समिति गठित करने की मांग की है। इसके बाद से ही देश में ताजमहल के कमरों के रहस्यों को लेकर एक नई बहस छिड़ी हुई है। वहीं, इतिहासकारों का कहना है कि ताजमहल विश्व विरासत है। इसे धार्मिक रंग नहीं देना चाहिए।

22 बंद दरवाजों को खोलने में कानूनी अड़चनें

ताजमहल (Taj Mahal) एक वैश्विक धरोहर है इसलिए इस मामले में UNESCO (यूनाइडेट नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एण्ड कल्चरल ऑरगनाइजेशन) भी नजर रखेगा। ताजमहल में अगर किसी भी तरह का बदलाव होता है, तो पहले UNESCO से बात करनी होगी। ऐसे में ये बात साफ है कि दरवाजों को खोलने के दौरान भी UNESCO की सहमति जरूरी होगी। इसके अलावा दरवाजे खोलने के काम में हाईलेवल एक्सपर्सट्स और बहुत सारा धन भी चाहिए होगा। एक चुनौती ये भी होगी कि जांच के दौरान अगर स्मारक के स्ट्रक्चर में कोई भी समस्या आई या कुछ क्षतिग्रस्त हुआ तो उसे संभालना बहुत मुश्किल होगा।

बंद दरवाजों के पीछे क्या हो सकती है वजह

ताजमहल (Taj Mahal) के 22 बंद दरवाजों के पीछे क्या वजह हो सकती है? इसके बारे में अभी निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता है। ये तो दरवाजे खुलने के बाद ही पता लग सकेगा। हालांकि ये बात जरूर है कि भारत में पहले ऐसे कई मंदिर भी रहे हैं, जहां के कुछ हिस्सों को इसलिए बंद कर दिया गया क्योंकि वह डैमेज हो रहे थे और वहां किसी पर्यटक के जाने से उस जगह को या पर्यटक को नुकसान पहुंच सकता था।

याचिका में और क्या दावे किए गए

याचिका में कहा गया है कि 1212 AD में राजा परमर्दिदेव ने तेजो महालय बनवाया, जो बाद में जयपुर के राजा मान सिंह को विरासत में मिल गया। उसके बाद इसके अधिकारी राजा जय सिंह हुए। लेकिन शाहजहां ने इस तेजो महालय को तुड़वाया और बाद में मकबरा बना दिया। इस याचिका में यह भी कहा गया है कि मुस्लिम लोग महल शब्द का इस्तेमाल नहीं करते और औरंगजेब के काल में भी कहीं ताजमहल का जिक्र नहीं है।





Source link

Add a Comment

Your email address will not be published.